logo
Coordinator, K. Banerjee Centre of Atmospheric and Ocean Studies (KBCAOS), AU
The candidates desirous of seeking admission in the PhD course of the K. Banerjee Centre of Atmospheric and Ocean Studies (KBCAOS), University of Allahabad, Allahabad and who have qualified Level-I in CRET-2019 are hereby informed that they should submit the following documents to the Centre’s Office latest by August 21, 2019.
1. Resume/ Biodata
2. CRET-2019 Admit Card and Score Card
3. No Objection Certificate (if qualified in other department)
4. Photo copy of all Academic Documents (Self-attested)
5. Aadhar Card
6. Latest Character Certificate
7. Caste Certificate issued by GoI
8. Research Proposal
The Level-II test of eligible candidates shall be held on August 22, 2019 at 11:00 AM in the Centre.
 
Head, Department of Statistics, AU
B.A/B.Sc. Part III Statistics practical (second) examination, 2019 of all the centers of UoA will be held on August 22, 2019 in the Department of Statistics, UoA during 10.00AM to 1.00PM.
 
Supertntendent, Shatabdi Womens Hostel, AU:
परास्नातक प्रथम वर्ष के छात्रावास की द्वितीय सूची अधिष्ठाता छात्र कल्याण एवं महिला काॅलेज परिसर में दिनांक 20/08/2019 से लगी हुई है। शताब्दी महिला छात्रावास में चयनित परास्नातक प्रथम वर्ष की छात्राये छात्रावास प्रवेश के लिए दिनांक 21/08/2019 से 26/08/2019 समय 10 बजे से 4 बजे के बीच प्रत्येक कार्य दिवस में अपना प्रवेश सुनिश्चित करें। उक्त तिथि के पश्चात उनका प्रवेश स्वतः निरस्त हो जायेगा ।
 
अध्यक्ष, अर्थशास्त्र विभाग, इ0वि0वि0ः
क्रेट परीक्षा 2019-20 (अर्थशास्त्र विषय) में उत्तीर्ण छात्र/छात्राओं को सूचित किया जाता है कि द्वितीय स्तर मौखिक (साक्षात्कार) परीक्षा दिनंाक 22/08/2019 को 12 बजे अपराह्न विभाग के कान्फ्रेंस हाॅल में होगी। क्रेट द्वितीय स्तर के लिए उत्तीर्ण छात्र/छात्रायें अपने समस्त मूल प्रमाण पत्रों के साथ विभाग में उपस्थित होने का कष्ट करें।
 
Head, Department of Medieval & Modern History, AU:
The list of candidates short listed for CRET Level –II test for 2019-20 Medieval & Mdoern History is displayed on the notice board of the Department of Medieval & Modern History. The short listed candidates are required to submit latest by 22/08/2019 three copies of all their educational, social category, special weightage certificates aadhar card and admit card along with the copy of synopsis ( ten copies) on the proposed research area and prescribed application downloaded from the University website and duly filled /signed. The CRET Level –II test of short listed candidates who submit their application form along with certificates and synopsis by the last date of the submission will take place on 26/08/2019  from 9:30am.
 
अध्यक्ष, हिन्दी विभाग, इ0वि0वि0ः
आज इलाहाबाद विश्वविद्यालय में मानव संसाधन विकास केन्द्र एवं हिन्दी एवं आधुनिक भारतीय भाषा विभाग के द्वारा 17 वें पुनश्चर्या कार्यक्रम का प्रारंभ हुआ जिसका उद्घाटन सीनेट हाउस परिसर के नार्थ हाॅल में उत्तर प्रदेश के विधानसभा अध्यक्ष माननीय हृदयनारायण दीक्षित के कर-कमलों के द्वारा हुआ। कार्यक्रम का प्रारम्भ सरस्वती वंदना एवं दीप प्रज्जवलन से हुआ। अतिथियों का स्वागत पुष्प् गुच्छ एवं स्मृति चिन्ह देकर किया गया कार्यक्रम के संयोजक प्रो0 योगेन्द्र प्रताप सिंह जी ने कार्यक्रम का परिचय दिया यह पुनश्चर्या कार्यक्रम 5 वर्ष बाद आयोजित किया गया। उन्होंने बताया कि कार्यक्रम का विषय छायावादः एक पुनर्मूल्यांकन पर 40 प्रतिभागी भारतवर्ष के 11 प्रांतो से अपना विचार रखेगें। स्वागत कथन हिन्दी विभाग के अध्यक्ष प्रो0 चंदा देवी ने किया। विशिष्ट अतिथि के तौर पर मानव संसाधन विकास केन्द्र के निदेशक प्रो0 आर0के0 सिंह ने कार्यक्रम की सम्पूर्ण जानकारी प्रदान की तथा छायावाद एक पुनर्मूल्यंाकन विषय पर अपने विचार भी प्रस्तुत किए। मुख्य वक्ता के रूप में  हिन्दूस्तानी एकेडमी, प्रयागराज के अध्यक्ष डाॅ0 उदय प्रताप सिंह ने छायावाद के प्रमुख कवियों के विषय में जानकारी प्रदान की। उन्होंने निराला को माक्र्सवादी कहने के निंदा की और अपनी बात को उद्धरण द्वारा पुष्ट भी किया। मुख्य अतिथि श्री हृदय नारायण दीक्षित जी ने भी कविता के विषय में अपने विचार प्रस्तुत किए उन्होंने कहा कि कविता का कोई मार्ग नही होता। वेदों में जिसे हमंें ऋचा कहते है उसे ही आधुनिक भाषा में कविता कहा जाता है। कविता के सृजन के कारण मानव मन में उत्वस होता है और यह उत्सव गायन के रूप में संसार के समक्ष प्रस्तुत होता है। छायावादी कविता के विषय में उनके विचार थे कि छायावादी रचनाकाल आज के समय से भिन्न है अतः उस परिप्रेक्ष्य में भी छायावादी कविता को व्याख्यायित करना चाहिए। कार्यक्रम के अध्यक्ष के रूप में प्रो0 रतन लाल हांगलू ने भी छायावाद पर अपने विचार प्रकट किए तथा भविष्य में भी छायावाद पर सेमिनार करवाने की बात की जिसमें भारतवर्ष  के हर कोने से विद्वान लोगों को आमंत्रित किया जाएगा। कार्यक्रम के अन्त में धन्यवाद ज्ञापन जन सम्पर्क अधिकारी डाॅ0 चितरंजन कुमार ने किया तथा सफल संचालन हिन्दी विभाग के डाॅ0 विनम्रसेन सिंह ने किसा । कार्यक्रम में प्रो0 रामेन्द्र सिंह, प्राक्टर रामसेवक दुबे, प्रो0 हर्ष कुमार, लाइवे्ररियन बी0के सिंह, प्रो0 संतोष भदौरिया, प्रो0 शिव प्रसाद शुक्ल, डाॅ0 राकेश सिंह, डाॅ0 अमरेन्द्र त्रिपाठी, डाॅ0 बृजेश कुमार पाण्डेय, डाॅ0 संतोष सिंह, डाॅ0 सुनील विक्रम सिंह, डाॅ0 गजुला राजू, डाॅ0 वीरेन्द्र कुमार मीणा, डाॅ0 विजय कुमार रविदास, डाॅ0 सुरभि त्रिपाठी, डाॅ0 मीना कुमारी, डाॅ0 अमृता , डाॅ0 सुधा त्रिपाठी, डाॅ0 अमितेश आदि उपस्थित रहें