logo
निदेशक, गाॅधी भवन, इ0वि0वि0ः
आज दिनांक 07/06/2019 को गांधी विचार एवं शंान्ति अध्ययन संस्थान एवं राजनीति शास्त्र विभाग इ0वि0वि0 के तत्वावधान में पर्यावरण एवं गांधी विषय पर विशिष्ट व्याख्यान का आयोजन किया गया। गांधी भवन के निदेशक प्रो0 बी0के0राय ने उक्त विषय का प्रवर्तन करते हुए अतिथियों का स्वागत किया । उन्होने कहा कि गांधीवादी दर्शन ही एकमात्र ऐसी ज्योति है जिसके माध्यम से पर्यावरणीय समस्या रूपी प्रदूषण के अन्धकार को  दूर किया जा सकता है। उन्होनें वर्तमान विश्व में जीवों के  सामने पर्यावरण से आसन्त खतरों के प्रति आगाह किया । साथ ही उन्होने पश्चिमी विकासीय माॅडल के स्थान पर प्राचीन भारतीय संस्कृति में निहित सतत विकास के प्रतिरूप न्यायमूर्ति सखा राम सिंह यादव ने अपने वक्तत्व में गांधी विचारों उनके अहिंसा के सिद्धान्त इत्यादि को पर्यावरण के साथ जोडकर नवीन आयाम /दृष्टि की ओर श्रोताओं का ध्यान आकृष्ट किया। उन्होने इस बात की पुष्टि की इस ब्रहाण्ड में प्रत्येक वस्तु अन्तर्सम्बन्धित है और किसी का भी अलग अस्तित्व नहीं है अपने अध्यक्षीय उद्बोधन में इलाहाबाद विश्वविद्यालय के माननीय कुलपति प्रो0 रतन लाल हांगलू ने पर्यावरण समस्या के व्यावहारिक पक्ष पर विशेष बल दिया। उन्होंने सभी का इस ओर ध्यान आकृष्ट  किया कि पर्यावरणीय प्रदूषण हमारे मानसिक विकार से जुड़ा है और यदि हम स्वचेतना से लोगों की मानसिक चेतना में सकारात्मक परिर्वतन कर पाये ंतो आसन्न पर्यावरणीय संकट को दूर किया जा सकता है। कुलपति ने गांधी भवन के द्वारा विशिष्ट व्याख्यान माला के अन्र्तगत कराएं जा रहें व्याख्यानों की मुक्त कंढ से प्रशंसा का कार्यक्रम का संचालन डा0 राजेश सिंह  एवं धन्यवाद ज्ञापन प्रो0 जयशंकर ने किया। कार्यक्रम के दौरान विश्वविद्यालय मुख्य कुलानुशासक, परीक्षा नियंत्रक इत्यदि गणमान्य अधिकारियों के साथ ही प्रो0 मनमोहन कृष्णा, प्रों0 हर्ष कुमार? डा0 कार्तिकेय मिश्र, डा0 सुभाष, डा0 अखिलेश पाल, डा0जितेन्द्र कुमार, डा0 उत्कर्ष उपाध्याय, डा0 अविनाश, डा0 आशीषधर, डा0 शैलेन्द्र राय, डा0 उदय भन, आयुष राय, श्रेयांश सिंह एवं सैकडों शिक्षक एवं शोधछात्र तथा छात्र/छात्राएं उपस्थित रहें।