logo
ZHindi Text

21 Nov 2017

Director, Institute of Professional Studies, AU:

The students and faculty of Institute of Professional Studies, University of Allahabad had organized the Finals of Debate Competition on   21st November’ 2017 under the banner of Debate club. This initiative has been taken by the soft skill trainers of the institute to encourage students and motivate them to enhance their public speaking skills and also their general knowledge. The topic of the debate competition was "Are Gandhi's teachings relevant to the challenges of Modern India"? The debate was conducted in English as well as Hindi language. There were in all 12 competitors from all the centers, Media Studies, Food Technology, Computer Education, and Fashion Design of IPS. The judges for the event were Prof. V.K. Rai, Dept of Political Science, Prof. Neelum Saran Gour, Dept. of English, University of Allahabad. The inaugural address was given by Prof. Neelam Yadav, Director, IPS, UoA in which she congratulated the students for their hard work and efforts. Followed by a classical dance performance by Ms. Bhavya Kohli, Centre of Fashion Design & Technology. In the end, the judges also appreciated the zeal and passion of the students to organize the event along with the efforts of the staff.

The winners who bagged prizes for the event were :

Best Speaker English - Mr. Shivam Mishra, Centre of Media Studies

Best Speaker Hindi - Mr. Ujjwal Srivastava, Centre of Media Studies

Runner up English - Ms. Alisha Khan, Centre of Media Studies

Runner up Hindi - Ms. Neha Taslim Fatima, Centre of Food Technology

Best Interjector - Ms. Prachi Bajpai, Centre of Media Studies

The event was coordinated by the soft skill trainers Priyanka Mishra, Gunjan Varshney & Sehar Siddiqui. Amongst the guests present during the event were Prof. S. M. Prasad, Dr Jaya Kapoor, Dr Saleha Rasheed, Samina Naqvi, Dr Neetu Mishra, Dr Pinki Saini, Dr. Vineeta Puranik, Ms. Mitali, Dr. Srishti Purwar, Shalini Singh and Suchitra Tripathi.

 

16 Nov 2017

Director, Institute of Professional Studies, AU:
                                                   Diamond Jubilee Workshop on “Codex” (Date: November 14, 2017)
Chairman for Codex Coordinating Committee for Asia (CC-Asia) & Chairman of Surakshit Khadya Abhiyan (Safe Food Mission for All), Government of India, Mr. Sanjay Dave is here in Allahabad for conducting the 3 days AFST(I) Diamond Jubilee Workshop on “Codex” at Centre of Food Technology on 14th November 2017. Codex Alimentarius Commission is an inter-government body with over 180 members with the framework of the Joint Food Standards Programme established by the FAO of the United Nations and WHO, with the purpose of protecting the health of consumers and ensuring fair practices in the food trade. Mr. Dave delivered a lecture on Codex and its relevance, rights and obligations under the SPS agreement, structure of Codex and elaborated some case studies on use of Codex in Food Control System for monitoring of pesticide residues, promoting export of organic products to developed markets and harmonization of national standards with use of Codex. This 3 day training programme is jointly organized by Centre of Food Technology, IPS, University of Allahabad and AFST(I) Allahabad Chapter for B.Voc and M.Sc. students and members of AFST(I). Through this workshop the centre aims to equip students in the area of Food Safety, laws and standards. Prof. Neelam Yadav, Director, IPS along with other faculty members was present during the sessions of this workshop. The students from various institutes like Ewing Christian College and Sam Higginbottom University of Agriculture, Technology and Sciences also participated in this workshop.
 
AFST(I) Diamond Jubilee Workshop on “Codex” (November 16, 2017)
Mr. Sanjay Dave, Chairman for Codex Coordinating Committee for Asia (CC-Asia) & Chairman of Surakshit Khadya Abhiyan (Safe Food Mission for All), Government of India conducted 3 days AFST(I) Diamond Jubilee Workshop on “Codex” at Centre of Food Technology from 14 th - 16 th November 2017. Codex Alimentarius Commission is an inter-government body with over 180 members with the framework of the Joint Food Standards Programme established by the FAO of the United Nations and WHO, with the purpose of protecting the health of consumers and ensuring fair practices in the food trade. Mr. Dave in his workshop covered Codex and its relevance, rights and obligations under the SPS agreement, structure of Codex and elaborated some case studies on use of Codex in Food Control System for monitoring of pesticide residues, promoting export of organic products to developed markets and harmonization of national standards with use of Codex. On last day of the concluding session a quiz competition on Codex was organised for the students focusing on the three days lectures. The certificates were distributed to all the participants of the workshop. Prof. Neelam Yadav, Director, IPS and Dr. Vinita Puranik, organising secretary along with other faculty members was present during the valedictory session of this workshop. This 3 day training programme was jointly organized by Centre of Food Technology, IPS, University of Allahabad and AFST(I) Allahabad Chapter for students of Centre of Food Technology, Ewing Christian College, Sam Higginbottom University of Agriculture, Technology and Sciences and members of AFST(I). Through this training program the centre aims to provide the students and food professionals about variety of aspects of food safety, laws, standards and regulations related to food trade.

01 Nov 2017

निदेशक, इंस्टीट्यूट आॅफ प्रोफेशनल स्टडीज़, इ0वि0वि0
भारतीय चिंतकों ने प्रारम्भ से ही यह स्थापना दे दी थी कि सत्ता और मूल्यों के बीच समन्वय स्थापित करके ही जन-कल्याण के लक्ष्य को प्राप्त किया जा सकता है। वास्तव में शासक को उन मूल्यों को ध्यान में रखकर शासन चलाना होता है जो प्रजा से सीधा सम्बन्ध रखते हैं। यह बात इलाहाबाद विश्वविद्यालय के राजनीति विज्ञान विभाग के अध्यक्ष प्रोफेसर वी0के0 राय ने कही। प्रोफेसर राय सेन्टर आॅफ मीडिया स्ट्डीज में ‘‘भारत सरकार और भारतीय राजनीति’’ विषय पर आयोजित सात दिवसीय कार्यशाला के उद्घाटन अवसर पर ‘सरकारी संस्थाएं व उनकी कार्य प्रणाली’ विषय पर व्याख्यान दे रहे थे। प्रोफेसर राय ने कहा कि किसी भी लोकतंत्र की सफलता इसी बात पर निर्भर होती है कि वहां की सरकार मूल्यपरक शासन का संचालन कर रही है या नहीं। इस सच से इंकार नहीं किया जा सकता कि भ्रष्टाचार व्यक्तिगत आधारित होता है और हमारे पूर्वजों ने व्यक्तिगत के सुधार और समन्वय पर पूरा ध्यान देकर समाज की निर्मिति किया है। जिन राष्ट्रों ने इसका ध्यान नहीं रखा वहां लोकतांत्रिक व्यवस्थाएं संकट में है। प्रारम्भ में सेन्टर के कोर्स कोआर्डिनेटर डा0 धनंजय चोपड़ा ने कार्यशाला की रूप-रेखा रखते हुए बताया कि भारतीय सरकार व्यवस्था, कार्य प्रणाली, राजनीतिक पार्टियां, चुनाव प्रक्रिया, एक्जिट पोल आदि विषयों पर व्याख्यान होंगे जिनका सीधा सरोकार मीडिया से होता है। जिन प्रमुख विद्वानों को व्याख्यान देना है, उनमें प्रोफेसर एच0के0 शर्मा, डा0 अंशुमान मिश्रा व डा0 सुभाष शुक्ला शामिल हैं। इस कार्यशाला में बी0ए0 मीडिया स्ट्डीज व एम0वोक0 मीडिया स्ट्डीज के विद्यार्थी भाग ले रहे हैं।
 

31 Oct 2017

Director, Institute of Professional Studies, AU:

The students and faculty of Institute of Professional Studies, University of Allahabad had organized the Semi Finals of Debate Competition on 31st October’2017 under the banner of Debate club. This initiative has been taken by the soft skill trainers of the institute to encourage students and motivate them to enhance their public speaking skills and also their general knowledge. The topic of the debate competition was Uniform at higher education level ensures discipline. The debate was conducted in English as well as Hindi language for undergraduate and postgraduate level. There were in all 32 competitors from all the centers, Media Studies, Food Technology, Computer Education, and Fashion Design of IPS. Ashi Kesarwani, Mahimn Dwivedi, Alisha Khan, Shivam Mishra, Abhishek Singh & Ratna Mishra (English category) and Prachi Bajpai, Ujjwal Srivastava, Prasoon Srivastava, Ashutosh Mishra, Neha Taslim Fatima & Sudhir (Hindi category) qualified for the final round of the debates to held in November. The judges for the event were Dr. Surya Narayan Singh, Department of Hindi, University of Allahabad and Syed Safdar Ali Kazmi, Advocate Allahabad High Court. The event was convened by Dr Dhananjay Chopra and Gunjan Varshney. The event was coordinated by Sehar Siddiqui, Dr. Ritu Mathur, Priyanka Mishra and Sachin Mehrotra. Amongst the guests present during the event were the faculty members of Centre of Media Studies.

इलाहाबाद। जहाँ एक ओर कुछ ने माना कि उच्चशिक्षा के विद्यार्थियों के लिए यूनिफार्म में होना अनुशासन का पर्याय होता है क्योंकि इससे न केवल सम्भाव और एकता की भावना बनती है वहीं दूसरी ओर विद्यार्थी की संस्थान से जुड़े होने की पहचान भी बनती है। दूसरी ओर कुछ ने यह कहा कि अनुशासन यूनिफार्म से नहीं बल्कि अपने व्यवहार और अपनी शिक्षा का हिस्सा होता है। ये विचार व्यक्त किये गये इंस्टीट्यूट आॅफ प्रोफेशनल स्ट्डीज द्वारा आयोजित वाद-विवाद प्रतियोगिता के सेमीफाइनल में, जिसका विषय था ‘‘क्या उच्चतर शिक्षा में यूनिफाॅर्म, अनुशासन को सुनिश्चित करता है।’’ सेन्टर आॅफ मीडिया स्ट््डीज के सभागार में आयोजित इस वाद-विवाद प्रतियोगिता में इंस्टीट्यूट आॅफ प्रोफेशनल स्ट्डीज, इलाहाबाद विश्वविद्यालय के मीडिया स्ट्डीज, फूड टेक्नोलाॅजी, कम्प्यूटर एजूकेशन एवं फैशन डिजाइन के स्नातक व परास्नातक पाठ्यक्रमों के 32 विद्यार्थियों ने भाग लिया। हिन्दी वाद-विवाद के स्नातक स्तर में प्राची बाजपेई प्रथम, उज्जवल श्रीवास्तव द्वितीय तथा प्रसून श्रीवास्तव को तृतीय स्थान मिला, जबकि परास्नातक स्तर में आशुतोष मिश्रा को प्रथम, नेहा फातिमा को द्वितीय तथा सुधीर को तृतीय स्थान मिला। इसी तरह अंग्रेजी भाषा के वाद-विवाद में स्नातक स्तर में असी केसरवानी, महिम द्विवेदी तथा आलिशा खान क्रमशः पहले, दूसरे और तीसरे स्थान पर रहीं, इसी तरह परास्नातक स्तर में शिवम् मिश्रा, अभिषेक सिंह व रत्ना मिश्रा क्रमशः प्रथम, द्वितीय व तृतीय स्थान पर रहे। इंस्ट्ीट्यूट के डिबेट क्लब द्वारा आयोजित इस प्रतियोगिता के निर्णायक के रूप में इलाहाबाद विश्वविद्यालय के हिन्दी विभाग के डा0 सूर्य नारायण तथा इलाहाबाद उच्चन्यायलय के अधिवक्ता सैयद सफदर अली काजमी उपस्थित थे। प्रारम्भ में सेन्टर आॅफ मीडिया स्ट्डीज के कोर्स कोआर्डिनेटर डा0 धनंजय चोपड़ा ने निर्णायकों व अतिथियों का स्वागत किया तथा कार्यक्रम के अन्त में प्रतियोगिता की संयोजक गुंजन वाष्र्णेय ने आभार ज्ञापन किया। प्रतियोगिता का संचालन उत्कर्ष पाण्डेय व आयूषी ओझा ने किया। इस अवसर पर इंस्टीट्यूट के अध्यापकगण सहर सिद्दिकी, प्रियंका मिश्रा, सचिन मेहरोत्रा, अमित मौर्या, डा0 ऋतु माथुर, एस श्रीकान्त आदि उपस्थित थे।


30 August 2017

Director, Institute of Professional studies, AU:

Following Candidates have been selected in CRET- 2017 Examination.

S.No.

Name

Subject

1.     

Vandana Verma

Food Technology

2.     

Sahar Fatima

Nutritional Science



04 August 2017

Institute of Professional Studies, AU
इलाहाबाद। हमारे देश की संस्कृति और क्राफ्टमैनशिप पूरी दुनिया के लिए कौतूहल का विषय है। यही वजह है कि हमारी क्रिएटिविटी हमेशा से लोगों और उनके जीवन को बेहतर बनाने का काम करती रही है। यही भाव लेकर प्रत्येक नई फैशन डिजाइनर्स को इण्डस्ट्री में कदम रखना होता है। यह बात चर्चित अभिनेत्री रिशिता भट्ट ने कही। सुश्री भट्ट इंस्टीट्यूट आॅफ प्रोफेशनल स्ट्डीज, इलाहाबाद विश्वविद्यालय के सेन्टर आॅफ फैशन डिजाइन एण्ड टेक्नोलाॅजी की छात्राओं को सम्बोधित कर रही थीं। 
अशोका, हासिल, शोरगुल, शागिर्द, दिल विल प्यार व्यार सहित ढेर सारी फिल्मों की अभिनेत्री सुश्री भट्ट ने कहा कि जब तक हम पूरी तरह अपनी कला में डूबते नहीं हैं, तब तक हम बेहतर कलाकृति क्रिएट नहीं कर पाते। हमें ग्लैमर और वास्तविक सुन्दरता के सही-सही मायने समझकर ही अपनी कृति तैयार करनी होती है। फैशन डिजाइनर के लिए तो यह भी महत्वपूर्ण होता है कि वह अपनी डिजाइन के माध्यम से लोगों को अधिक सुन्दर और आत्मविश्वास से भरपूर व्यक्तित्व वाला बना सके। 
एक प्रश्न के उत्तर में सुश्री भट्ट ने कहा कि सिनेमा इण्डस्ट्री और फैशन का रिश्ता बहुत गहरा है। यह सही है कि सिनेमा डायरेक्टर मीडियम है, लेकिन एक कलाकार को अपने ‘लुक’ पर ध्यान देते समय कपड़ों पर ध्यान देना जरूरी होता है। सिनेमा के किसी करेक्टर का मनोविज्ञान समझे बिना उसे निभाया नहीं जा सकता। उन्होंने अपनी फिल्म ‘हासिल’ का उदाहरण दिया और कहा कि फिल्म की किरदार निहारिका की भूमिका निभाने से पहले उन्होंने इलाहाबाद की लड़कियों के रहन-सहन व पहनावे को बखूबी समझा, तभी उसे निभाने में सफल हो पायीं। सुश्री भट्ट ने कहा कि हमारा समय लड़कियों को अपनी प्रतिभा को प्रस्तुत करने की संभावनाओं वाला समय है। इसलिए मेहनत और अत्मविश्वास के साथ आगे बढ़ने की पहल करनी होगी। उन्होंने कहा कि ‘क्रिएट योर स्टाइल एण्ड लव योर वर्क’।फैशन डिजाइनिंग व टेक्नोलाॅजी की विद्यार्थियों ने सुश्री भट्ट से उनकी फिल्मों, उनकी लाइफ स्टाइल और फैशन से जुड़ी उनकी मान्यताओं पर ढेर सारे सवाल पूछे।
प्रारम्भ में इंस्टीट्यूट आॅफ प्रोफेशन स्ट्डीज की निदेशक प्रो0 नीलम यादव ने सुश्री भट्ट का स्वागत किया। सेन्टर आॅफ फैशन डिजाइन एण्ड टेक्नोलाॅजी की इंचार्ज सुश्री मिताली ने सेन्टर का परिचय प्रस्तुत किया। सुश्री भट्ट को सेन्टर की विद्यार्थियों द्वारा तैयार कृतियां भी भेंट की गईं। इस अवसर पर बड़ी संख्या में फैशन डिजाइन एण्ड टेक्नोलाॅजी के विभिन्न पाठ्यक्रमों की छात्राएं व अध्यापक उपस्थित थे।  
 

24 May 2017

निदेशक , सेन्टर आॅफ मीडिया स्टडीज, इंस्टीट्यूट आॅफ प्रोफेशनल स्टडीज, इ0 वि0 वि0

रेडियो की दुनिया रोमांच से भरी हुई है। यह हमे क्रिएटिविटी के नये-नये आयामों से जोड़ती है। यही वजह है कि रेडियो इण्डस्ट्री को ऐसे युवाओं की आवश्यकता है जो लेखन के साथ-साथ आवाज और उच्चारण में भी माहिर हों। यह बात वरिष्ठ रेडियो पत्रकार व आकाशवाणी लखनऊ के वरिष्ठ कार्यक्रम अधिशासी अनुपम पाठक ने कही श्री पाठक इलाहाबाद विश्वविद्यालय के सेन्टर आॅफ मीडिया स्टडीज में चल रहे ‘‘समर स्कूल आॅन रेडियो’’ चार दिवसीय एफ.एम. कार्यशाला का उद्घाटन कर रहे थे। इंस्टीट्यूट आॅफ प्रोफेशनल स्टडीज, इलाहाबाद विश्वविद्यालय के सेन्टर आॅफ मीडिया स्टडीज में इन दिनों ‘‘समर स्कूल आॅन रेडियो’’ चल रहा है। श्री पाठक के निर्देशन में बी.वोक. व एम.वोक. मीडिया स्टडीज के विद्यार्थी काउण्ट डाउन शो, स्थानीय समाचार बुलेटिन, करेंट न्यूज फीचर, स्पोर्ट्स राउण्ड अप, इण्टरव्यू, रेडियो स्क्रिप्ट और प्रोमोज आदि तैयार करने का प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे हैं। प्रशिक्षण के दौरान विद्यार्थी ‘‘करके सीखी’’ की तर्ज पर दो घण्टे का एक प्रोग्राम तैयार कर रहे हैं, जिसकी प्रस्तुति 25 मई 2017 की शाम को होगी। पन्द्रह दिवसीय समर स्कूल में देश भर से रेडियो विशेषज्ञों को आमंत्रित किया गया है। ये विशेषज्ञ अपने-अपने विषय विशेष का प्रायोगिक प्रशिक्षण विद्यार्थियों को दे रहे हैं। प्रशिक्षण को प्रस्तुतिपरक रखा गया है। समर स्कूल के दौरान अब तक प्रख्यात रेडियो विशेषज्ञ व आकाशवाणी, नई दिल्ली की पूर्व समाचार प्रभारी सुश्री सरिता बरारा, बी.बी.सी., नई दिल्ली के डेस्क एडिटर रेहान फैजल, आकाशवाणी, नई दिल्ली की उप निदेशक व एफ.एम. गोल्ड की पूर्व प्रमुख रितु राजपूत विद्यार्थियों को प्रशिक्षण दे चुके हैं। समर स्कूल में हार्टफुलनेस अभियान की ओर से मेडिटेशन का भी प्रशिक्षण दिया जा रहा है। विद्यार्थियों हेतु कई रेडियो स्टेशनों के विजिट की भी व्यवस्था की गई है।


18 May 2016

Director, Institute of Professional Studies, AU:

Renowned scientist Dr. J. R. Bandekar from Bhabha Atomic Research Centre (BARC), Mumbai was present as speaker in the training programme at Centre of Food Technology. He delivered a lecture on Preservation of Food by Irradiation Technology, where he emphasized on process of exposing foodstuffs to ionizing radiation which eliminate the risk of food borne illnesses, prevent or slow down spoilage, arrest maturation or sprouting and as a treatment against pests. Another topic on which he talked about was potential effects of probiotics which is believed to provide health benefits when consumed. This 12 day, training programme is organized by Centre of Food Technology, IPS, University of Allahabad for the students of M.Sc Food Technology and Nutritional Sciences. The programme was inaugurated on 11th May 2017, by the former Vice-Chancellor of Bundelkhand University Prof. A.C Pandey, who talked about the novel techniques and applications of nanotechnology in food, which is one of the most emerging field now a days. Through this program the centre aims to provide the students a close industry - academic interaction and to enrich their knowledge in the field of advances in analytical techniques in food and nutritional sciences. Prof. Neelam Yadav, Director, IPS informed that this programme will be continued for 12 days which will be addressed by the eminent experts like Prof. Baliram, Prof. C P Mishra and Dr. R R Mishra from BHU, Dr Snehashish Chakravorty, ICT Mumbai; Dr D N Yadav, CIPHET, Luhdhiana; Dr Vasudha Sharma, Jamia Hamdard, New Delhi; Dr Shikha Khanna, RML Hospital New Delhi and Dr Gurdeep Kaur, AIIMS, New Delhi. Throughout the programme the students will be given the opportunity to interact with eminent experts in their respective fields and get hands on experience through visits to laboratories and food industries.

भाभा एटामिक रिसर्च सेन्टर के जाने-माने वैज्ञानिक प्रोफेसर जे. आर. बांडेकर  इलाहाबाद विश्वविद्यालय के सेण्टर आॅफ फूड टेक्नोलाजी में आयोजित ट्रेनिंग कार्यक्रम में आमंत्रित थे। उन्होंने खाद्य संरक्षण की नवीनतम तकनीक ‘इर्रेडिएशन टेक्नोलाॅजी’ के विभिन्न पहलुओं से विस्तार से छात्रों को अवगत कराया। इसके अतिरिक्त उन्होंने छात्रों को प्रोबायोटिक्स के प्रभावों और मानव स्वास्थ्य में इसके योगदान को भी विस्तार से समझाया। बारह दिनों तक चलने वाला यह ट्रेनिंग कार्यक्रम एम.एससी. फूड टेक्नोलाजी और एम.एससी. न्यूट्रिशनल साइंस के द्वितीय सेमेस्टर के विद्यार्थियों के लिए आयोजित किया गया है। कार्यक्रम का उद्घाटन 11 मई 2017 को बुन्देलखण्ड विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति एवं आई.आई.डी.एस. के निदेशक प्रोफेसर अविनाश चन्द्र पाण्डेय ने किया। उन्होंने खाद्य उत्पादन एवं प्रसंस्करण नैनोटेक्नोलाॅजी के प्रयोग पर एक विस्तृत व्याख्यान दिया। इंस्टीट्यूट आॅफ प्रोफेशनल स्टडीज की निदेशक प्रोफेसर नीलम यादव ने बताया कि 12 दिनों तक चलने वाले इस ट्रेनिंग कार्यक्रम में जो अन्य प्रमुख विशेषज्ञ भाग ले रहे हैं उनमें बी0एच0यू0 के प्रो0 बलिराम, प्रो0 सी0पी0 मिश्रा एवं डा0 आर0आर0 मिश्रा, आई.सी.टी. मुम्बई के डाॅ. स्नेहाशीष चक्रवर्ती, सीफेट लुधियाना के डाॅ0 डी.एन. यादव, जामिया हमदर्द नई दिल्ली की डाॅ0 वसुधा शर्मा, राम मनोहर लोहिया अस्पताल, नई दिल्ली की चीफ डाइटीशियन डा0 शिखा खन्ना एवं एम्स, नई दिल्ली की असिस्टेंट डाइटीशियन श्रीमती गुरदीप कौर शामिल हैं। ेट्रेनिंग के दौरान छात्रों को फूड टेक्नोलाॅजी एवं न्यूट्रिशनल साइंस के विशेषज्ञों से सीधे बातचीत का अवसर मिलेगा साथ ही साथ उन्हें विभिन्न महत्वपूर्ण प्रयोगशालाओं और फूड इण्डस्ट्री का भ्रमण कराकर प्रायोगिक अनुभव भी कराया जायेगा।


16 May 2017

निदेशक, इन्स्टीट्यूट आॅफ प्रोफेशनल स्टडीज, इ0वि0वि0ः

मीडिया की सबसे बड़ी पहचान उसका जनता से जुड़ाव होना होता है। वास्तव में मीडिया की जिम्मेदारी जनता के प्रति होती है न कि सत्ता के प्रति। मीडिया के विद्यार्थियों को संविधान की जानकारी होनी भी जरूरी है। ऐसा होने पर ही वे जिम्मेदार पत्रकार बन सकते हैं। यह बात प्रख्यात रेडियो विशेषज्ञ व आकाशवाणी, नई दिल्ली की रिपोर्टिंग व फीचर यूनिट की पूर्व प्रमुख सरिता बरारा ने कही। सुश्री बरारा इलाहाबाद विश्वविद्यालय के सेन्टर आॅफ मीडिया स्टडीज में सोलह दिवसीय ‘‘समर स्कूल आॅन रेडियो’’ और ‘‘समर स्कूल आॅन वीडियो प्रोडक्शन’’ का उद्घाटन कर रहीं थीं। ये समर स्कूल बी.वोक. व एम.वोक. इन मीडिया स्टडीज के विद्यार्थियों के लिए आयोजित किये गये हैं।सुश्री बरारा ने कहा कि बदलते समय में रेडियो का विस्तार लगातार हो रहा है और यही वजह है कि नई पीढ़ी को रेडियो के लिए तैयार किया जाना जरूरी है। यह भी सच है कि रेडियो की पहुँच बढ़ रही है और यह एक बार फिर आम आदमी का मीडिया बनता जा रहा है। इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता कि आने वाला समय रेडियो इण्डस्ट्री की बेहतरी का समय होगा। उन्होंने कहा कि रेडियो एक ऐसा मीडिया उपक्रम है जिसमें क्रिएटिविटी और इंटरैक्टिविटी की अपार संभावनाएं होती हैं। नये रेडियो चैनलों के आने से मीडिया के इस क्षेत्र में रोजगार भी बढ़ेंगे। उद्घाटन सत्र की अध्यक्षता करते हुए इंस्टीट्यूट आॅफ प्रोफेशनल स्टडीज की निदेशक प्रो. नीलम यादव ने कहा कि मीडिया के विद्यार्थियों की सबसे बड़ी विशेषता अपने काम के प्रति समपर्ण और समयबद्धता होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि उच्च शिक्षा के क्षेत्र में विविधता बढ़ी है और इसका भरपूर लाभ विद्यार्थियों को उठाना चाहिए। इस समर स्कूल में नई दिल्ली से आये सीनियर फिल्म मेकर मतिउर्रहमान तथा वीडियोग्राफर पूनम चैरसिया ने प्रशिक्षण प्रारम्भ किया। श्री रहमान ने विद्यार्थियों को डाक्यूमेंट्री तैयार करने के टिप्स दिये और टेलीविजन की दुनिया में हो रहे तकनीकी परिवर्तनों से रूबरू कराया। कार्यक्रम के प्रारम्भ में सेण्टर के कोर्स कोआर्डिनेटर डा. धनंजय चोपड़ा ने पन्द्रह दिवसीय समर स्कूल की रूपरेखा रखते हुए बताया कि ये समर स्कूल बी. वोक. व एम. वोक. पाठ्यक्रम के हिस्से हैं जिसमें मीडिया इण्डस्ट्री के जाने माने विशेषज्ञ विद्यार्थियों को ट्रेनिंग देंगे। समर स्कूल में जो प्रमुख विशेषज्ञ उपस्थित रहेंगे उनमें बी.बी.सी., नई दिल्ली के डेस्क एडिटर रेहान फैजल, आकाशवाणी, नई दिल्ली की उप निदेशक व एफ.एम. गोल्ड की पूर्व प्रमुख रितु राजपूत, एनडीटीवी नई दिल्ली के न्यूज एडिटर प्रियदर्शन व वरिष्ठ संवाददाता कमाल खान, एफ.एम. विशेषज्ञ व आकाशवाणी के एम. चैनल रेनबो, लखनऊ के प्रभारी अनुपम पाठक, एमएच वन न्यूज चैनल के शरद अवस्थी, फ्रीलांस फिल्म मेकर अभिनय खोपरजी सहित इलाहाबाद के कई रेडियो व टेलीविजन पत्रकारिता के विशेषज्ञ, रेडियो पत्रकार व रेडियो जाॅकी शामिल हैं। आभार ज्ञापन सेन्टर के अध्यापक एस.के. यादव ने किया। इस अवसर पर विद्या सागर मिश्र, सचिन मेहरोत्रा, अमित मौर्या, डा0 रितू माथुर आदि उपस्थित रहे।