logo
ZHindi Text
 
Head, Department of Biochemistry, AU:
B.Sc. Biochemistry Practical Examination Schedule (2017-18)
CLASS
DATE
TIME
B.Sc. Part -I
February  23, 2018 (Friday)
09:30am
B.Sc. Part -II
February  27, 2018 (Tuesday)
09:30am
B.Sc. Part -III
February  22, 2018 (Thursday )
09:30am
All students should report in the Department one day before Examination.
 
Head, Department of Medieval & Modern History, AU:
A meeting of the D.Phil. research scholars of the Department of Medieval & Modern History was organized in the Department on 08/02/2018 at 01:00pm the meeting was chaired by the Head of the Department Prof. Yogeshwar Tewari. He solicited the cooperation of all the stakeholders of the Department in his initiatives of establishing the Department as the centre of Advance Studies under the aegis of UGC re-starting the Journal of “Allahabad Historical Society “ and its Publication of regular basis etc. Two research scholars of the Department Ms Anjana and Mohd. Adil presented the progress of their research dissertations. Prof. P.L. Vishwakarma, Dr. Alok Prasad, Dr. Vikram Harijan, Dr. P.S. Harish, Dr. Bhavesh Dwivedi, Dr. Anil Kumar Yadav and Dr. Vinita Mishra were present in the meeting.
 
Head, Department of Anthropology, AU:
M.A./M.Sc. Semester 4th students are requested to meet the Undersigned at 12Noon on February 12, 2018.
12 फरवरी 2018 को एम0ए0/म0एस0सी0 चतुर्थ सेमेस्टर छात्रोंए 12 बजे अधोहस्ताक्षरी से मिलें।
 
Dean, Faculty of Commerce. AU
The Dean, Faculty of Commerce Prof. Prahlad Kumar informs that a Regional Seminar on "Financial Inclusion through Financial Education" is being organized on February 12-13, 2018 at the Rajshekhar Hall in the Department of Commerce and Business Administration. The Seminar is sponsored by the Securities and Exchange Board of India, National Stock Exchange of India, AMFI, and SBI Mutual Funds. The seminar would be inaugurated by the Hon'ble Vice-Chancellor of the University of Allahabad. The Chief Guest of the inaugural session is Sri Surya Kant Sharma, DGM, SEBI. The Guests of Honour are Prof Ashok Mittal, former Chairman, Depaftment of Economics, Aligarh Muslim University and external member, Faculty of Commerce, University of Allahabad, and Prof. Nitin Tike, National lnstitute of Security Market, Mumbai. The seminar would have four sessions. Session I will be addressed by SEBI on "Role of SEBI in Securities Market", Session II will be addressed by Mr. Vipul Khajuria, Managei, NSE on "Principles of Sound Investing", Session III will be addressed by Prof. Nitin Tike, NISM, and Session IV will be addressed by Mr. Munish Sabharwal. North Head. SBI Mutual Fund
 
Coordinator, Centre of Materials Sciences, AU
M.Sc. (Mat. Science) Third Semester Lab/Project Practical Exam will be held on 12 February 2018 (Monday) instead of 13 February, 2018 (Tuesday), from 10.30 am to 4.30 pm, due to Maha Shivaratri Parva on 13th/14th February 2018. Students are required to report at 10.00 am.
 
 
अध्यक्ष, भूगोल विभाग, इ0वि0वि0ः
भूगोल के उन शोध छात्रों को सूचित किया जाता है कि पूर्व में प्री0डि0फिल0 कोर्स पूर्ण कर चुके है और परीक्षा में सम्मिलित नही हुयें है। ऐसे शोध छात्रों की परीक्षा दिनांक 15.02.2018 को 11 बजे भूगोल विभाग में सम्पन्न होगी।
 
निदेशक, आई0पी0एस0, इ0वि0वि0ः
इलाहाबाद। नेशनल सिक्योरिटी की बात तबतक बेमानी है, जबतक कि हम फूड सिक्योरिटीइल के लक्ष्य को प्राप्त नहीं कर लेते हैं। वास्तव में हमें बढ़ती जनसंख्या, विकसित होती टेक्नोलाॅजी और फूड सिक्योरिटी के बीच समन्वय बनाकर आगे बढ़ना होगा, तभी हम स्वस्थ्य भारत का सपना साकार कर सकते हैं। यह बात आई.सी.ए.आर., नई दिल्ली के पूर्व निदेशक डा. मंगला राय ने कही। डा. मंगला राय सेंटर आॅफ फूड टेक्नोलाॅजी, इलाहाबाद विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित नेशनल फूड कान्फ्रेंस के उद्घाटन सत्र को सम्बोधित कर रहे थे। सेंटर आॅफ फूड टेक्नोलाॅजी तथा एसोसिएशन आॅफ फूड साइंटिस्ट्स एण्ड टेक्नोलाॅजिस्ट्स इण्डिया की इलाहाबाद शाखा के संयुक्त तत्वावधान में ‘एग्रिकल्चर एण्ड टेक्नोलाॅजी इनोवेशन फाॅर न्यूट्रीशनल सिक्योरिटी’ विषय पर आयोजित नेशनल कान्फ्रेंस में डा. राय ने कहा कि यह समय रिसर्च व डेवलपमेंट तथा ह्यूमन रिसोर्स डेवलपमेंट में अधिक से अधिक निवेश करने का है। आज इस बात की आवश्यकता है कि फूड टेक्नोलाॅजिस्ट्स, वेटेनरी डाक्टर तथा मृदा विशेषज्ञ साथ मिलकर काम करें। हमें यह भी देखना होगा कि हम किस तरह अपनी जैव सम्पदा की विविधता का फायदा उठा सकते हैं। यह दुखद है कि जैव विविधता वाले इस देश में इससे सम्बन्धित पेटेंट सबसे कम हैं। विशिष्ट वक्ता एग्रिकल्चर साइंटिस्ट रिक्रूटमेंट बोर्ड, नई दिल्ली के चेयरमैन डा. ए.के. श्रीवास्तव ने आंकड़ों की सहायता से यह समझाने का प्रयास किया कि किस तरह उत्पादकता और बढ़ती जनसंख्या के बीच सामंजस्य बैठाने में हमारा देश भारत पहल कर रहा है। डा. श्रीवास्तव ने कहा कि हमारे सामने यह एक चुनौती ही है कि सीमित भूभाग में बढ़ती जनसंख्या और कृषि उत्पादन के बीच समन्वय कैसे स्थापित किया जाए। साथ ही खाद्य प्रसंस्करण और खाद्य सुरक्षा के क्षेत्र में किस तरह इनोवेशन के साथ आगे बढ़ा जाए। उन्होंने कहा कि आने वाला समय कुपोषण से निपटने की बड़ी चुनौती लेकर आ रहा है। इस समय विश्व का हर आठवां व्यक्ति कुपोषित है। भारत की स्थिति तो और भी अधिक भयावह है। हमारे वैज्ञानिकों को सचेत व सतर्क रहकर इस दिशा में सार्थक पहल करनी होगी। नेशनल कान्फ्रंेस की अध्यक्षता कर रहे इलाहाबाद विश्वविद्यालय के कार्यवाहक कुलपति प्रो. के. एस. मिश्रा ने कहा कि भारतीय समाज को न्यूट्रीशनल इनोवेशन व फूड सिक्योरिटी के प्रति जागरूक करने की आवश्यकता है। हमें आशा है कि हमारे वैज्ञानिक स्वस्थ्य भारत की कल्पना को साकार करने में सफल होंगे। विशिष्ट अतिथि तथा एसोसिएशन आॅफ फूड साईंटिस्ट्स एण्ड टेक्नोलाॅजिस्ट, इण्डिया के अध्यक्ष डा. प्रबोध हाल्दे ने कहा कि फूड प्रोसेसिंग के क्षेत्र में असीम संभावनाएं हैं। इसलिए आवश्यकता है कि इस क्षेत्र से युवाओं को जोड़ा जाए व उन्हें नए-नए शोध व इनोवेशन के लिए प्रेरित किया जाए। डा. हाल्दे ने कवि हरिवंश राय बच्चन की पंक्तियाॅं सुनाकर उपस्थित युवा वैज्ञानिकों व विद्यार्थियों को कुछ नया करने के लिए प्रोत्साहित भी किया। प्रारम्भ में कान्फ्र्रेंस की संयोजक व इंस्टीट्यूट आॅफ प्रोफेशनल स्टडीज की निदेशिका प्रो. नीलम यादव ने दो दिनों तक चलने वाली कान्फ्रेंस के उद्देश्यों व रूप-रेखा पर प्रकाश डाला। धन्यवाद ज्ञापन कान्फ्रेंस सचिव डा. पिंकी सैनी ने किया। उद्घाटन सत्र का प्रारम्भ सरस्वती वंदना से हुआ तथा अंत में अतिथियों को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित भी किया गया। इस अवसर पर कान्फ्रेंस स्मारिका का भी विमोचन किया गया। कार्यक्रम का संचालन गुंजन वाष्णेय ने किया।  विज्ञान संकाय स्थित सेंटर आॅफ फूड टेक्नोलाॅजी के सभागार में चल रही इस नेशनल कान्फ्रेंस में उपस्थित हुए विशिष्ट वक्ताओं में यू0पी0 काॅउन्सिल आॅफ एग्रिकल्चर रिसर्च, लखनऊ के पूर्व महानिदेशक प्रो0 राजेन्द्र कुमार, मलेशियन पाॅम आयल बोर्ड के क्षेत्रीय निदेशक (दक्षिण एशिया) डा0 नगेन्द्र बाला सुन्दरम, पूर्व कुलपति, सरदार वल्लभभाई पटेल विश्वविद्याल  य, मेरठ से प्रो0 एम0पी0 यादव, आई.आई.टी. खड़गपुर से प्रोफेसर एच0एन0 मिश्रा, बी.एच.यू. वाराणसी से प्रो0 सी0पी0 मिश्रा, एनडीआरआई करनाल से डा0 आशीष के0 सिंह, सीफेट, लुधियाना के पूर्व निदेशक डा0 आर0 टी0 पाटिल आदि प्रमुख हैं। उद्घाटन अवसर पर कुलानुशासक प्रो. राम सेवक दूबे, डीन विद्यार्थी कल्याण प्रो. हर्ष कुमार, प्रो. जगदम्बा सिंह, प्रो. ए.के. रा  य, प्रो. संदीप मल्होत्रा, प्रो. एस.आई. रिजवी सहित कई विभागों के अध्यक्ष, शोधार्थी व फूड टेक्नोलाॅजी के विद्यार्थी उपस्थित थे। नेशनल कान्फ्रेंस के पहले दिन के समापन पर सांस्कृतिक संध्या का भी आयोजन किया गया जिसका मुख्य आकर्षण कबीर गायन था।
 
कार्यक्रम समन्वयक, राष्ट्रीय सेवा योजना, इलाहाबाद विश्वविद्यालय   
राजपथ गणतन्त्र दिवस से लौटे राष्ट्रीय सेवा योजना के स्वयंसेवको शिखा मिश्रा व सचिन वर्मा को कुलपति प्रोफेसर आर एल हांगलू ने दी बधाई।  यू पी कॉन्टिनजेंंट टीम गणतन्त्र दिवस नई दिल्ली 2018 में राष्ट्रीय सेवा योजना इलाहाबाद विश्वविद्यालय के स्वयंसेवक  शिखा मिश्रा व सचिन वर्मा के इलाहाबाद आगमन पर कुलपति प्रोफेसर आर एल हांगलू  ने बधाई दी तथा अकादमिक व उपलब्ध  अन्य गतिविधियों का व्यक्तिव विकास में पूर्ण उपयोग करने को कहा।खासकर शिखा मिश्रा के गायकी व इलाहाबाद बी ए प्रथम वर्ष की  टॉपर  होने पर विशेष बधाई दी।शिखा मिश्रा ने कुलपति जी से राजपथ पर परेड में हिस्सा लेने एराष्ट्रपति महोदय के साथ हाई टी एप्रधानमंत्री व उपराष्ट्रपति के साथ  मिलने के स्वर्णिम क्षणों को साझा किया ।कुलपति महोदय ने राष्ट्रीय सेवा योजना की युवाओं की सक्रिय सामाजिक नवाचार गतिविधियों की प्रशंसा की।  प्राचार्य ईशवर शरण महाविद्यलय डॉ आनंद शंकर सिंह ने भी स्यंवसेवकों का  उत्साहवर्धन किया व भविष्य में राष्ट्र निर्माण में सकारात्मक भूमिका निर्वहन करने हेतु प्रेरित किया।कार्यक्रम समन्वयक डॉ मंजू सिंह ने प्रसन्नता जाहिर करते हुवे बताया कि शिखा व सचिन का माननीय राज्यपाल महोदय  उत्तर प्रदेश  द्वारा लखनऊ में सम्मान किया जाएगा व युवा कार्य व खेल मंत्रालय एभारत सरकार द्वारा युथ एक्सचेंज कार्यक्रम में विदेश जानेवाले ्प्रतिनिधिमण्डल में इलाहाबाद विश्वविद्यालय का गौरव बढ़ाने का मौका मिलेगा।