logo
ZHindi Text

Head, Department of Law, au:

The final result of CRET (Level-III) 2017-18 has been declared which is available on the Notice Board of the Department of Law, Chatham Lines Campus, University of Allahabad. The successful candidates are advised to consult with prospective supervisor and submit the synopsis of the proposed research work by 24.11.2017.

Head, Department of Urdu, AU:
P G Urdu Examination Program 2017-18

Third Semester Exam. 2017-18

Place: Department of Urdu

Time: 11:00am to 2:00pm

Date

Paper

Paper name

06.12.2017

I

Urdu Nasr ki Tareekh

11.12.2017

II

GHAIR AFSANVI ADAB

13.12.2017

III

NAZRI TANQUID

18.12.2017

IV

(OPTIONAL) IQBAL/GHALIB/MEER

20.12.2017

V

(OPTIONAL) PREM CHAND/SIR DYED AHMAD KHAN/ABUL KALAM AZAD

First Semester Exam. 2017-18

Place: Department of Urdu

Time: 11:00am to 2:00pm

Date

Paper

Paper name

05.12.2017

I

CLASSICAL URDU GHAZAL

07.12.2017

II

URDU MASNAVI

12.12.2017

III

URDU QASIDA

14.12.2017

IV

URDU MARSIYA

19.12.2017

V

HISTORY OF URDU LANGUAGE

         


Joint Registrar, AU:

  • The Viva-Voce of Mr./Ms. Mohd. Majibur Rahman, candidate for the D. Phil. Degree of the University on the subject of his/her thesis titled as, “Contributions of Shaikh Irtada Ali Gopamawi to Islamic Studies and Arabic Literature” will be held on November 15, 2017 at11:00 A.M. at the Department of Arabic/Persian, AU, Allahabad. The examination will be conducted by Prof. Ram Abdul Ali, and Prof. A.Q. jafari. Members of the Academic Council are invited to attend but no T.A./D.A. will be paid
  • The Viva-Voce of Mr./Ms. Geetika Vajpayee, candidate for the D. Phil. Degree of the University on the subject of his/her thesis titled as, “Development of Biocontrol Agent and Biosensor for fungus pathogen in plant” will be held on December  18, 2017 at 11:00 A.M. at the Department of Centre of Biotechnology, AU, Allahabad. The examination will be conducted byProf. Anil Prakash and Prof. Shanthy sundaram. Members of the Academic Council are invited to attend but no T.A./D.A. will be paid
  • The Viva-Voce of Mr./Ms. Tran Thi Man, candidate for the D. Phil. Degree of the University on the subject of his/her thesis titled as, “An Analytical study of the process of Attaining an Arahat as Depicted in Sutta Pitaka” will be held on November 20, 2017 at 01:30pm. at the Department of Philosophy, AU, Allahabad. The examination will be conducted by Prof. R.C.Sinhaand Prof. S.K. Maharana. Members of the Academic Council are invited to attend but no T.A./D.A. will be paid
संयोजक, राजभाषा कार्यान्वयन समिति, इ0वि0वि0ः
मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार के पत्रांक मिसिल संण् 1-2/2008 (राजभाषा), अक्टूबर, 2017 के अनुपालन में निविदा आमंत्रण ,सूचना के संबंध में सूचना शीघ्रातिशीघ् आयोग को प्रषित करनी है। कृपया वित्तीय वर्ष 2016-18 की समस्त निविदा आमंत्रण / सूचनाओं की संख्या राजभाषा अनुभाग को प्रेषित करने का कष्ट करें। जिससे उक्त सूचना को समेकित कर आयोग को प्रेषित किया जा सके।
 
 
                                              महाविद्यालय में नियमानुसार भर्ती के सम्बन्ध में।
विगत कुछ दिनों से महाविद्यालय में शिक्षकों के पदों पर भर्ती के सम्बन्ध में समाचार पत्रों के माध्यम से कुछ लोग लगातार दुश्प्रचार कर रहे हैं। भर्ती के सम्बन्ध में महाविद्यालय का पक्ष निम्नवत् हैः.
महाविद्यालय में 21 विभागों में असिस्टेण्ट प्रोफेसर के कुल 151 पद लगभग 15-20 वर्शों से रिक्त थे। विश्वविद्यालय प्रशासन से अनुमति के बाद राष्ट्रीय समाचार पत्रों में 5 सितम्बरए 2017 को विज्ञापन दिया गया। अन्तिम तिथि 4 अक्टूबरए 2017 थी। आवेदन प्रक्रिया ऑनलाईन एवं पारदर्शी तरीके से सम्पन्न हुई।
इलाहाबाद विश्वविद्यालय के संशोधित अध्यादेश के अनुसार तीन सदस्यीय स्क्रीनिंग कमेटी ने आवेदनों की स्क्रीनिंग की। स्क्रीनिंग कमेटी में डीन, कालेज डेवलेपमेण्ट, इलाहाबाद विश्वविद्यालय के सम्बन्धित विभाग के विभागाध्यक्ष एवं प्राचार्य (संयोजक) होते हैं। विशय विशेशज्ञ के रूप में विभागाध्यक्ष, इलाहाबाद विश्वविद्यालय द्वारा आवेदनों की स्क्रीनिंग की गई और एकेडिमिक, शोध तथा प्रकाशन इत्यादि के अंकों को जाॅचा गया। 
प्रो0 ऋशिकान्त पाण्डेय द्वारा लगाया गया यह आरोप कि अंकों को सही तरीके से नहीं दिया गया, पूर्णतः हास्यास्पद है। क्योंकि स्क्रीनिंग उनके द्वारा ही की गई थी। डीन एवं प्राचार्य सम्बन्धित विशय के विशेशज्ञ नहीं होते।
जहाँ तक इलाहाबाद विश्वविद्यालय के अध्यादेश के अनुसार चयन समिति न करने का आरोप हैए इस सम्बन्ध में महाविद्यालय का कहना है कि :-
(क)  इलाहाबाद विश्वविद्यालय अध्यादेश दिनांक 9 फरवरी, 2008 को लागू हुआ।
(ख) विश्वविद्यालय अनुदान आयोग द्वारा विनियमन 2010, 18 सितम्बर, 2010 को गजट में प्रकाशित किया गयाए जिसमें यह प्रावधान है कि सभी विश्वविद्यालय इसे शीघ्र ही स्वीकार कर लें।
(ग) इलाहाबाद विश्वविद्यालय कार्य.परिशद द्वारा सन् 2012 में ही यू0जी0सी0 रेग्यूलेशन को स्वीकार कर लिया गया था।
   कार्य.परिशद द्वारा 'यू0जी0सी0 रेग्यूलेशन 2010' स्वीकार किये जाने के बाद ही प्रभावी हो गया। अतः चयन समिति का गठन रेग्यूलेशन के अनुसार ही होगाए न कि अध्यादेश के अनुसार।
(घ) अध्यादेश में ही यह व्यवस्था है कि समय.समय पर यू0जी0सी0 द्वारा जारी रेग्यूलेशन लागू होंगे।
(डण) यू0जी0सी0 विनियम 2010 के ब्संनेम 5 के अनुसार विश्वविद्यालय के विभागाध्यक्ष को ही कुलपति द्वारा नामित किया जाना अनिवार्य नहीं है। अतः प्रो0 ऋशिकान्त पाण्डेय का आरोप निराधार एवं दुराग्रह से प्रेरित है।
यह आरोप भी कतिपय लोगों द्वारा लगाया जा रहा है कि कार्य.परिशद की बैठक 28/10/2017 को सम्पन्न होने के बाद 29/10/17 से ही तत्काल साक्षात्कार करा लिये गये। शायद वे इस बात से अनभिज्ञ हैं कि स्क्रीनिंग की प्रक्रिया 10 अक्टूबर ,2017 को प्रारम्भ हो गयी थी और जैसे जैसे स्क्रीनिंग होती गई, 14 दिन का अन्तराल देकर साक्षात्कार पत्र भेजे गये। स्क्रीनिंग के समय इलाहाबाद विश्वविद्यालय की जो छंटनी की नियमावली थी और विशय विशेशज्ञों की जो सूची प्रभावी थी उसके अनुरूप  ही नियमानुसार साक्षात्कार सम्पन्न कराये गये।
 
समाचार-पत्रों में प्राचार्य पद पर पुनर्नियुक्ति को लेकर भी भ्रान्तियाँ फैलाई जा रही है। प्राचार्य के आवेदन पत्र को अध्यक्ष, शासी निकाय द्वारा सीधे कुलपति कार्यालय को प्रेशित कर दिया गया था और कुलपति ने एक चार सदस्यीय समिति का गठन किया, जिसकी रिपोर्ट कार्य-परिशद की बैठक दिनांक 28/10/2017 में रखी गयी तथा कार्य-परिशद ने यू0जी0सी0 के आदेशों के अनुरूप प्राचार्य डॉ0 आनन्द कुमार श्रीवास्तव को 5 वर्श के लिये पुनर्नियुक्त करने का प्रस्ताव पारित किया और उसके अनन्तर शासी निकाय को रिपोर्ट किया गया।